JantERmantER

भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्‍स लिमिटेड
पावर सेक्‍टर पूर्वी क्षेत्र
आई एस ओ 9001ः2008 एवं आइएसओ 27001ः2013 प्रमाणित संगठन

JantERmantER in English

बीएचईएल पीएसईआर के इंटरनेट पृष्‍ठ पर आपका स्‍वागत है

अंतर्वस्‍तु

भेलगीत (1 ट्रैक)

भेलगीत (2 ट्रैक)

निविदा सूचना

वेंडर्स एरिया

लोकपाल एवं लोकायुक्‍त अधिनियम 2013 के तहत फॉर्मेट

सूचना का अधिकार

सूचना बोर्ड

बीएचईएल पीएसईआर में स्‍वच्‍छ भारत अभियान

चक्षु दान पर जागरूकता फैलाने वाली फिल्‍म

   
पीएसईआर के विशिष्‍ट कीर्तिमान

एससीसीएल सिंगरेनी यूनिट -2 (600 मेगावाट):
पूरा लोड 25/11/2016 पर हासिल की।

आईपीसीएल हल्दिया इकाई -1 (150 मेगावाट):
बॉयलर के EDTA सफाई सफलतापूर्वक 06/11/2016 को पूरा किया।

आईपीसीएल हल्दिया इकाई -1 (150 मेगावाट):
गैर-निकासी हाइड्रो बॉयलर का परीक्षण सफलतापूर्वक 19/10/2016 को किया।

बीआरबीसीएल नबीनगर यूनिट -2 (250 मेगावाट):
एसिड सफाई सफलतापूर्वक 16/10/2016 को पूरा किया।

पुनातसांगचु - I एचईपी यूनिट -2 (200 मेगावाट):
जेनरेटर-स्टेटर का अंतिम एचवी परीक्षण सफलतापूर्वक 15/10/2016 को पूरा किया।

सागरदिघी यूनिट 4 (500 मेगावाट):
15/10/2016 को सफलतापूर्वक सिंक्रनाइज़।

पुनातसांगचु - I एचईपी यूनिट -1 (200 मेगावाट):
;्टेटर का अंतिम एचवी परीक्षण सफलतापूर्वक 02/10/2016 को पूरा किया।

बीआरबीसीएल नबीनगर 2 यूनिट (250 मेगावाट):
बॉयलर सफलतापूर्वक 02/10/2016 को लाइट अप ।

मंगदेचु एचईपी यूनिट -1 (180 मेगावाट):
वितरक जल परीक्षण 01/10/2016 को सफलतापूर्वक किया।

एससीसीएल सिंगरेनी यूनिट -1 (600 मेगावाट):
प्रारंभिक आपरेशन 25/09/2016 को पूरा किया।

बीआरबीसीएल नबीनगर यूनिट -3 (250 मेगावाट):
टीजी की स्टेटर उठा लिया और सफलतापूर्वक 16/09/2016 को इसकी नींव पर रखा गया था।

आईपीसीएल हल्दिया यूनिट -2 (150 मेगावाट):
बॉयलर के अंतिम ड्रेनेबल हाइड्रो परीक्षण सफलतापूर्वक 16/09/2016 को प्रदर्शन किया।

एपीजीसीएल नामरूप:
गैस बूस्टर कंप्रेसर 1 07/09/ 2016 को कमीशन

एचएनपीसीएल वाइजग इकाई -1 (520 मेगावाट):
05/09/2016 को परियोजना के प्रारंभिक आपरेशन का सफल समापन।

आईपीसीएल हल्दिया इकाई -1 (150 मेगावाट):
टीजी की चिकनाई तेल फ्लशिंग 29/08/2016 से शुरू कर दिया

तीस्ता यूनिट - 4 (40 मेगावाट):
11/08/2016 को सिंक्रोनाइजेसन एवं फुल लोड प्राप्‍त

एससीसीएल सिंगरेनी (2 x 600 मेगावाट):
07/08/2016 को टीपीपी सफलतापूर्वक भारत के माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा राष्ट्र को समर्पित किया गया

एपीजीसीएल नामरूप:
07/08/2016 को जीटी क्रैंक्ड।

एनटीपीसी बोंगाईगांव यूनिट -2 (250 मेगावाट):
05/08/2016 को नॉन ड्रेनेबल हाइड्रॉलिक टेस्ट पूरा हो चुका है।

नॉर्थ करनपुरा यूनिट -2 (660 मेगावाट):
बॉयलर इरेक्‍सन 27/07/2016 को शुरू हो गया ।

मारवा यूनिट -2 (500 मेगावाट):
पूरा लोड 15/07/2016 को प्राप्‍त।

नॉर्थ करनपुरा यूनिट -1 (660 मेगावाट):
चिमनी स्लिपिंग 14/07/2016 से शुरू।

आईओसीएल पारादीप यूबी-4:
सुरक्षा वाल्व फ्लोटिंग सफलतापूर्वक 05/07/2016 को पूरा।

तीस्ता यूनिट -3 (40 मेगावाट):
03/07/2016 को पूरा लोड प्राप्‍त।

एचएनपीसीएल वाइज़ग यूनिट -2 (520 मेगावाट):
02/07/2016 को सीओडी घोषित कर दिया।

सागरदिघी यूनिट -3 (500 मेगावाट):
01/07/2016 को सीओडी घोषित कर दिया।

तीस्ता यूनिट -3 (40 मेगावाट):
01/07/2016 को सिंक्रानाइजेसन सफलतापूर्वक किया।

नॉर्थ करनपुरा यूनिट -1 (660 मेगावाट):
29/06/2016 को ईएसपी इरेक्‍सन शुरू।

नॉर्थ करनपुरा यूनिट -3 (660 मेगावाट):
26/06/2016 को टीजी रैफ कास्टिंग सफलतापूर्वक पूरा ।

तीस्ता यूनिट -4 (40 मेगावाट):
28/06/2016 को रोटर असेंबली सफलतापूर्वक पिट में उतारा गया।

तीस्ता यूनिट -3 (40 मेगावाट):
27/06/2016 को 125 आरपीएम का यूनिट स्‍पन और रेटेड स्‍पीड प्राप्‍त । 28/06/2016 को बियरिंग रन पूरा किया।

एससीसीएल सिंगरेनी यूनिट -1 (600 मेगावाट):
09/06/2016 को ईंधन तेल सपोर्ट हटाया गया।

तीस्ता यूनिट -4 (40 मेगावाट):
08/06/2016 टर्बाइन असेंबली को सफलतापूर्वक पिट में उतारा गया।

एससीसीएल सिंगरेनी यूनिट -2 (600 मेगावाट):
28/05/2016 को सिंक्रोनाइजेसन पूरा किया गया।

बी आर बी सी एल नबीनगर यूनिट -2 (250 मेगावाट):
21/05/2016 नॉन ड्रेनेबल हाइड्रो टेस्ट पूरा किया।

आईओसीएल पारादीप एचआरएसजी -2:
19/05/2016 को पूरा लोड FG सप्‍लीमेंटरी फायरिंग के साथ प्राप्‍त।

नॉर्थ करनपुरा यूनिट -2 (660 मेगावाट):
06/05/2016 को टीजी रैफ्ट कास्टिंग सफलतापूर्वक पूरा।

ओटीपीसी पालटाना पावर ब्लॉक -2:
05/05/2016 को पीजी टेस्ट पूरा किया।

एनटीपीसी बोंगाईगांव यूनिट -2 (250 मेगावाट):
04/05/2016 को ईडीटीए रासायनिक सफाई सफलतापूर्वक पूरा।

आईबी वैली यूनिट -4 (660 मेगावाट):
02/05/2016 को बॉयलर के पहले सिलिंग गर्डर सफलतापूर्वक इरेक्‍ट कर दिया गया है।

आईबी वैली यूनिट -3 (660 मेगावाट):
22/04/2016 को बॉयलर के पहले सिलिंग गर्डर सफलतापूर्वक इरेक्‍ट कर दिया गया है।

तीस्ता यूनिट -3 (40 मेगावाट):
19/04/2016 को रोटर असेंबली सफलतापूर्वक पिट में उतारा गया।

तीस्ता यूनिट -3 (40 मेगावाट):
08/04/2016 रोटर असेंबली सफलतापूर्वक पिट में उतारा गया।

आईपीसीएल हल्दिया इकाई -1 (150 मेगावाट):
31/03/2016 को टर्बाइन बॉक्स अप सफलतापूर्वक प्राप्‍त।

एचएनपीसीएल वाइजग यूनिट -2 (520 मेगावाट):
31/03/2016 को सिंक्रानाइजेसन एवं फुल लोड प्राप्‍त ।

एनटीपीसी बोंगईगांव यूनिट -2 (250 मेगावाट):
बॉयलर 27/03/2016 को लाइटेड कर दिया गया है।

एनटीपीसी बोंगईगांव यूनिट -1 (250 मेगावाट):
26/03/2016 को 72 घंटे फुल लोड ऑपरेशन के पूरा होने के बाद सीओडी घोषित कर दिया।

मुजफ्फरपुर कांटी यूनिट -2 (195 मेगावाट):
24/03/2016 को सिंक्रानाइजेसन एवं फुल लोड प्राप्‍त।

बोकारो ए (500 मेगावाट):
22/03/2016 को पूरा लोड प्राप्‍त।

बीआरबीसीएल नबीनगर यूनिट -1 (250 मेगावाट):
20/03/2016 को सिंक्रानाइजेसन एवं फुल लोड प्राप्‍त।

आईओसीएल पारादीप यूबी-4:
19/03/2016 को स्टीम ब्‍लोइंग सफलतापूर्वक पूरा।

बीसीपीएल लेपेटकाटा:
जीटी -1 और एचआरएसजी -1 के पीजी परीक्षण सफलतापूर्वक 18/03/2016 को आयोजित किया गया है।

तीस्ता यूनिट -2 (40 मेगावाट):
17/03/2016 को सिंक्रानाइजेसन एवं फुल लोड प्राप्‍त।

सूरतगढ़ यूनिट -8 (660 मेगावाट):
बॉयलर के प्रवाह योग्य हाइड्रो टेस्ट सफलतापूर्वक 15/03/2016 को पूरा हो चुका है।

एससीसीएल सिंगरेनी यूनिट -1 (600 मेगावाट):
13/03/2016 को सिंक्रानाइजेसन एवं फुल लोड प्राप्‍त।

सागरदिघी यूनिट -4 (500 मेगावाट):
सुपरहीटर बैक वाश के साथ इडीटीए सफाई सफलतापूर्वक 13/03/2016 को पूरा।

आईबी वैली यूनिट -3 (660 मेगावाट):
11/03/2016 को कंडेनसर इरेक्‍सन शुरू कर दिया।

आईओसीएल पारादीप यूबी-4:
04/03/2016 को पैसीवेशन सफलतापूर्वक पूरा हो चुका है।

एपीजीसीएल नामरूप:
01/03/2016 को 6FA जीटी गियर पर रखा।

बरौनी (आर एंड एम) यूनिट -7 (110 मेगावाट):
28/02/2016 तेल सिंक्रोनाइजेसन सफलतापूर्वक पूरा।

आईओसीएल पारादीप यूबी-4:
साइट्रिक एसिड सफाई सफलतापूर्वक 23/02/2016 पर पूरा हो चुका है।

सागरदिघी यूनिट 4 (500 मेगावाट):
19/02/2016 को बॉयलर का सबसे पहले लाइट अप सफलतापूर्वक किया गया है।

बाढ़ यूनिट -5 (660 मेगावाट):
18/02/2016 को सीओडी घोषित।

बीसीपीएल लेपेटकाटा एसटीजी (15 मेगावाट):
17/02/2016 को फुल लोड सफलतापूर्वक प्राप्‍त

तीस्ता यूनिट -1 (40 मेगावाट):
14/02/2016 पर सफलतापूर्वक सिंक्रनाइज़ और फुल लोड सफलतापूर्वक प्राप्‍त ।

आईओसीएल पारादीप यूबी-4:
11/02/2016 को एबीओ सफलतापूर्वक पूरा हो गया है।

बाढ़ यूनिट -5 (660 मेगावाट):
08/02/2016 को यूनिट ने 72 घंटे पूर्ण लोड रन सफलतापूर्वक पूरा किया।

बीआरबीसीएल नबीनगर यूनिट -1 (250 मेगावाट):
08/02/2016 को टीजी बारिंग गियर पर सफलतापूर्वक रखा गया।

तीस्ता यूनिट -2 (40 मेगावाट):
29/01/2016 को स्‍पीनिंग सफलतापूर्वक किया गया।

एससीसीएल सिंगरेनी यूनिट -2 (600 मेगावाट):
22/01/2016 को बॉयलर साइट्रिक एसिड सफाई पूरा किया।

बीआरबीसीएल नबीनगर यूनिट -1 (250 मेगावाट):
स्टीम ब्‍लोइंग 22/01/2016 को सफलतापूर्वक पूरा किया।

आईओसीएल पारादीप HRSG-1:
21/01/2016 को सप्‍लीमेंटरी फायरिंग सफलतापूर्वक पूरा।

आईपीसीएल हल्दिया इकाई -3 (150 मेगावाट):
बॉयलर ड्रम 14/01/2016 पर सफलतापूर्वक लिफ्ट किया गया।

नीपको मोनारचक :
14/01/2016 को प्‍लांट फुल लोड प्राप्‍त।

एचएनपीसीएल वाइजग यूनिट -1 (520 मेगावाट):
10/01/2016 को सीओडी घोषित।

मुजफ्फरपुर कांटी यूनिट -4 (195 मेगावाट):
09/01/2016 को टर्बाइन बॉक्स्ड अप ।

बीआरबीसीएल नबीनगर यूनिट -1 (250 मेगावाट):
08/02/2016 को स्‍टीम ब्‍लोइंग का दूसरा स्‍टेज सफलतापूर्वक पूरा किया।

बरौनी (आर एंड एम) यूनिट -7 (110 मेगावाट):
बॉयलर और पाइपिंग के स्टीम ब्‍लोइंग सफलतापूर्वक 08/01/2016 को 4 चरणों में पूरा किया गया है।

एससीसीएल सिंगरेनी यूनिट -1 (600 मेगावाट):
स्टीम ब्‍लोइंग 05/01/2016 को सफलतापूर्वक पूरा किया गया ।

सागरदिघी यूनिट -4 (500 मेगावाट):
05/01/2016 को नॉन ड्रेनेबल हाइड्रो टेस्‍ट सफलतापूर्वक पूरा ।

एससीसीएल सिंगरेनी यूनिट -2 (600 मेगावाट):
टीजी डेक फ्लोटिंग 01/01/2016 को किया गया ।

सूरतगढ़ इकाई-7 (660 मेगावाट):
बॉयलर का ड्रेनेबल हाइड्रॉलिक परीक्षण सफलतापूर्वक 31/12/2015 को संचालित किया गया है।

एससीसीएल सिंगरेनी यूनिट -1 (600 मेगावाट):
टीजी 27/12/2015 को पहली बार गियर को छोड़कर पर रखा गया था।

आईओसीएल पारादीप यूबी-4:
बॉयलर प्रकाश सफलतापूर्वक 23/12/2015 पर हासिल की।

एससीसीएल सिंगरेनी यूनिट -1 (600 मेगावाट):
स्टीम ब्‍लोइंग 20/12/2015 को प्रारंभ ।

BRBCL नबीनगर यूनिट -1 (250 मेगावाट):
बॉयलर का प्रथम चरण स्‍टीम ब्‍लोइंग 18/12/2015 को शुरू ।

ऑयल दुलियाजान (20 मेगावाट):
जीटीजी का पीजी परीक्षण 17/12/2015 को सफलतापूर्वक पूरा किया।

सागरदिघी यूनिट -3 (500 मेगावाट):
16/12/2015 को यूनिट पश्चिम बंगाल, की माननीय मुख्यमंत्री श्रीमती ममता बनर्जी द्वारा उद्घाटन किया गया।

सागरदिघी यूनिट -3 (500 मेगावाट):
14/12/2015 को फुल लोड प्राप्‍त ।

मुजफ्फरपुर कांटी यूनिट -4 (195 मेगावाट):
टरबाइन का ऑयल फ्लसिंग 08/12/2015 से शुरू कर दिया गया है।

नॉर्थ करनपुरा यूनिट -1 (660 मेगावाट):
07/12/2015को टीजी रैफ्ट का पीसीसी शुरू ।

एचएनपीसीएल वाइज़ग यूनिट -1 (520 मेगावाट):
06/12/015 को सिंक्रनाइज़ और फुल लोड प्राप्‍त ।

आईओसीएल पारादीप यूबी-2:
रिफाइनरी ईंधन गैस फायरिंग 05/12/ 2015 को सफलतापूर्वक प्राप्‍त ।

आईओसीएल पारादीप यूबी -1 और यूबी-2:
04/12/2015 को सभी सामान्य मानकों के साथ फुल लोडिंग प्राप्ति सफलतापूर्वक पूरा किया।

आईओसीएल पारादीप GT-2:
सभी सामान्य मानकों के साथ 02/12/2015 को नेफ्था फायरिंग सफलतापूर्वक प्राप्‍त ।

आईबी वैली यूनिट -4 (660 मेगावाट):
01/12/2015 को ईएसपी पहले कॉलम इरेक्‍सन शुरू किया गया है।

आईओसीएल पारादीप यूबी-4:
पूर्व बायलर फ्लसिंग 26/11/2015 को सफलतापूर्वक पूरा हो चुका है।

मुजफ्फरपुर कांटी यूनिट -4 (195 मेगावाट):
स्टीम ब्‍लोइंग सफलतापूर्वक 24/11/2015 को पूरा ।

सूरतगढ़ इकाई-7 (660 मेगावाट):
स्टेटर उठा लिया और सुरक्षित रूप से 24/11/2015 पर 17 मीटर मंजिल पर असेंबली स्टूल पर रखा।

एससीसीएल सिंगरेनी यूनिट -2 (600 मेगावाट):
टर्बाइन तेल फ्लशिंग 19/11/2015 को शुरू कर दिया।

एससीसीएल सिंगरेनी यूनिट -1 (600 मेगावाट):
बॉयलर एसिड सफाई 14/11/2015 को पूरा किया।

बीसीपीएल लेपेटकाटा :
13.5 मेगावाट स्टीम टर्बाइन जेनरेटर04/11/2015 को सिंक्रोनाइज़।

एससीसीएल सिंगरेनी यूनिट -2 (600 मेगावाट):
टर्बाइन बॉक्स अप 03/11/2015 को पूरा किया।

आईपीसीएल हल्दिया:
200MT जनरेटर स्टेटर उठा लिया और 02/11/2015 को नींव पर रखा।

आईओसीएल पारादीप:
जीटी -1 नेफ्था फायरिंग सभी सामान्य मानकों के साथ 30/10/2015 को सफलतापूर्वक प्राप्‍त ।

मुजफ्फरपुर कांटी यूनिट -4 (195 मेगावाट):
बॉयलर के EDTA सफाई सफलतापूर्वक 12/10/2015 को किया गया ।

नीपको मोनारचक
HRSG की स्टीम ब्‍लोइंग 10/10/ 2015 को पूरा किया।

आईओसीएल पारादीप:
एसटीजी -2 05/10/ 2015 को 30 मेगावाट का फुल लोड प्राप्‍त ।

आईओसीएल पारादीप:
HRSG -1 की सुरक्षा वाल्व फ्लोटिंग 01/10/2015 को सफलतापूर्वक पूरा किया।

आईओसीएल पारादीप:
एचआरएसजी -2 की सुरक्षा वाल्व फ्लोटिंग 26/09/2015 को सफलतापूर्वक पूरा किया।

आईबी वैली यूनिट -2 (660 मेगावाट):
द्वितीय चरण के 1 यूनिट का पहला कॉलम इरेक्‍सन 14/09/2015 पर पूरा हो चुका है।

बीआरबीसीएल नबीनगर यूनिट -1 (250 मेगावाट):
बॉयलर की रासायनिक सफाई 13/09/2015 को सफलतापूर्वक पूरा किया।

ओटीपीसी पालटाना:
12/09/2015 को 687 मेगावाट की उच्चतम प्लांट लोड प्राप्‍त ।

आईओसीएल पारादीप:
कैप्टिव पावर प्लांट परियोजना टीम ने 12/09/ 2015 को आईओसीएल पारादीप रिफाइनरी परियोजना पर पांच सौ दिनो का नि:शुल्क LTI आपरेशन प्राप्‍त किया है।

आईपीसीएल हल्दिया यूनिट -1 (150 मेगावाट):
बॉयलर के ड्रेनेबल हाइड्रॉलिक टेस्ट 11/09/2015 को पूरा हो चुका है।

नीपको मोनारचक :
टीजीबीपीपी के जीटी ट्रायल रन (14 दिन) उपलब्ध भार के साथ 07/09/2015 को सफलतापूर्वक पूरा हो चुका है।

बरौनी (आर एंड एम) यूनिट -1 (110 मेगावाट):
ईडीटीए के साथ बॉयलर की रासायनिक सफाई सफलतापूर्वक 05/09/2015 पर पूरी हो चुकी है

बी आर बी सीएल नबीनगर यूनिट -1 (250 मेगावाट):
यूनिट -1 बॉयलर से बाहर क्षार उबाल लें 2015/04/09 पर सफलतापूर्वक पूरा हो चुका है।

नीपको मोनारचक :
एचआरएसजी का क्षार उबाल 30/08/2015 को सफलतापूर्वक पूरा हो चुका है।

एनटीपीसी बोंगाईगांव:
साइट ने 1265 LTI फ्री डेज 28/08/2015 को हासिल किया।

मुजफ्फरपुर कांटी यूनिट -4 (195 मेगावाट):
यूनिट 4 के जेनरेटर स्टेटर को उठा लिया और इसकी नींव पर 27/08/2015 को ऑपरेशन में दो ईओटी क्रेन के साथ सफलतापूर्वक रखा।

मुजफ्फरपुर कांटी यूनिट -4 (195 मेगावाट):
बॉयलर की नॉन ड्रेनेबल हाइड्रो परीक्षण सं 4 सफलतापूर्वक 25/08/2015 को पूरा हो चुका है और प्रोटोकॉल एनटीपीसी द्वारा हस्ताक्षर किए गए।

मुजफ्फरपुर कांटी यूनिट -4 (195 मेगावाट):
यूनिट 4 का बॉयलर 23/08/2015 को सफलतापूर्वक लाइट अप किया गया है।

बीआरबीसीएल नबीनगर यूनिट -1 (250 मेगावाट):
साइट पर एसटीजी के लिए ल्‍युब तेल फलसिंग 14/08/15 को बीएचईएल और बीआरबीसीएल के वरिष्‍ठ अधिकारियों की उपस्थिति में शुरू कर दिया।

बीआरबीसीएल नबीनगर यूनिट -1 (250 मेगावाट):
जनरेटर रोटर सूत्रण सफलतापूर्वक बीआरबीसीएल और भेल के वरिष्‍ठ अधिकारियों की उपस्थिति में 11/08/2015 को पूरा हो चुका है।

एससीसीएल सिंगरेनी यूनिट -2 (600 मेगावाट):
सेरेमोनियल बॉयलर लाइट अप 4 नं ऑयल गन के साथ 06/08/2015 को अध्‍यक्ष एवं प्रबंध निदेशक -एससीसीएल द्वारा किया गया।

एससीसीएल सिंगरेनी यूनिट -1 (600 मेगावाट):
टर्बाइन ल्‍युब ऑयल फ्लशिंग 06/08/2015 को शुरू कर दिया।

एससीसीएल सिंगरेनी यूनिट -2 (600 मेगावाट):
बॉयलर प्रकाश सफलतापूर्वक 03/08/2015को किया गया था।

आईओसीएल पारादीप:
कैप्टिव पावर प्लांट परियोजना टीम ने 31/07/2015 को 5 लाख LTI फ्री मैन आवर्स ऑपरेशन प्राप्‍त की है।

एससीसीएल सिंगरेनी यूनिट -1 (600 मेगावाट):
टर्बाइन बॉक्स अप (एल.पी. - 2) 31/07/2015 को पूरा किया।

बरौनी आर एंड एम यूनिट -7 (110 मेगावाट):
बॉयलर प्रकाश सफलतापूर्वक 25/07/2015 को संचालित किया गया है।

एससीसीएल सिंगरेनी यूनिट -2 (600 मेगावाट):
एनडीएचटी 25/07/2015 को पूरा किया।

एपीजीसीएल नामरूप:
साइट ने सफलतापूर्वक 11/07/ 2015 को एचपी बॉयलर ड्रम को इरेक्‍ट किया ।

एससीसीएल सिंगरेनी यूनिट -1 (600 मेगावाट):
एल.पी. टर्बाइन बॉक्स अप 04/07/2015 को किया गया ।

सिंगरेनी यूनिट -1 (600 मेगावाट):
बॉयलर 01/07/2015 को पहली बार लाइट अप किया गया था।

सूरतगढ़ यूनिट -8 (660 मेगावाट):
कंडेनसर इरेक्‍सन कार्य 28/06/2015 को सूरतगढ़ साइट पर शुरू कर दिया।

आईओसीएल पारादीप:
एचआरएसजी 2 की स्टीम ब्‍लोइंग सफलतापूर्वक 27/06/2015 को पूरा हो चुका है।

ओटीपीसी पालटाना:
पालटाना के उच्चतम स्टेशन लोड 27/06/2015 को 110,321 एसएमसी / घंटा की गैस के प्रवाह पर 568 मेगावाट हासिल की। आज तक यह ओएनजीसी से अधिकतम करेक्‍टेड गैस प्रवाह है।

एनटीपीसी बोंगईगांव यूनिट -1 (250 मेगावाट):
सिंक्रोनाइजेसन और फुल लोड 22/06/2015 को प्राप्‍त ।

आईओसीएल पारादीप:
कैप्टिव पावर प्लांट परियोजना टीम 30/04/2015 पर आईओसीएल पारादीप रिफाइनरी परियोजना पर एक वर्ष LTI नि: शुल्क आपरेशन हासिल की है। इस प्रक्रिया में, 4 लाख से अधिक सुरक्षित आदमी घंटे के ऑपरेशन प्राप्‍त ।

ऑयल दुलियाजान (20 मेगावाट):
गैस आधारित पावर प्लांट 15/04/2015 को उद्घाटन किया।

बोकारो ए (500 मेगावाट):
31/03/2015 को सफलतापूर्वक सिंक्रनाइज़ |

मुजफ्फरपुर कांटी यूनिट -3 (195 मेगावाट):
फुल लोड 31/03/2015 को प्राप्‍त ।

सागरदिघी यूनिट -3 (500 मेगावाट):
31/03/2015 को सफलतापूर्वक ऑयल सिंक्रनाइज्ड।

मारवा यूनिट -2 (500 मेगावाट):
31/03/2015 को सफलतापूर्वक सिंक्रनाइज़

नीपको मोनारचक:
जीटी फुल लोड 30/03/2015 को प्राप्‍त ।

ओटीपीसी पालटाना पावर ब्लॉक -2:
पावर ब्लॉक 2 का वाणिज्यिक संचालन 24/03/2015 से घोषित कर दिया। यूनिट पूरे लोड पर चल रही है।


भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड भारत में आज अपने ही प्रकार का इंजीनियरी एवं उत्पादकता वाला बृहद्तम संगठन है। जिसे लाभ कमाऊ उद्यम एवं कार्यकारिता के लिए पहचाना जाता है। कम्पनी को वर्षों से उसकी सशक्त कार्यकारिता और सामर्थ्य के परिणामस्वरुप महारत्न कंपनियों में स्थान दिया गया है । इस उद्यम को विश्व बाजार में अपनी साख बनाने के लिए सरकार का पूरा-पूरा समर्थन प्राप्त है ।


भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड, पावर सेक्टर-पूर्वी क्षेत्र कंपनी के पावर सेक्टर का पूर्वी स्‍कंध है,जिसका मुख्यालय कोलकाता है एवं भारत के पूर्वी क्षेत्र को सेवाएं प्रदान करता है । पूर्वी क्षेत्र के अंतर्गत बिहार , उड़ीसा , पश्चिम बंगाल , असम, मेघालय, मणिपुर, मिजोरम ,अरुणाचल प्रदेश,नागालैंड,त्रिपुरा एवं सिक्किम राज्य आते हैं । इसके अतिरिक्‍त पीएसईआर ने अब औपचारिक सीमाएं पार कर ली हैं एवं आंध्रप्रदेश, तेलंगाना तथा राजस्‍थान जैसे राज्‍यों में परियोजनाएं निष्‍पादित कर रहा है।



हिंदी अनुभाग                            हिंदी परिवार


हमारे ग्राहक-सीएसर्इबी – डीवीसी – एनटीपीसी-बीआरबीसीएल- डब्‍ल्‍यु बी पी डी सी एल – डीपीएल – केबीयुएनएल – एचएनपीसीएल बीएसईबी – एससीसीएल – आरवीयुएनएल – अीपीजीसीएल- ओटीपीसी- अभिजित – एपीएनआरएल – टीएसपीसीएल – सीएसपीजीसीएल – एपीजीसीएल – टाटा पावर – नीप्‍को – आईओसीएल- ईस्‍को - बीआरपीएल – ऑयल – बीसीपीएल – एनएचपीसी – एनपीजीसीएल



भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्‍स लिमिटेड
पावर सेक्‍टर पूर्वी क्षेत्र
प्‍लॉट सं डीजे – 9/1सेक्‍टर ।। , करूणामयी, सॉल्‍टलेक सिटि , कोलकाता -700091, भारत
पंजीकृत कार्यालय -बीएचईएल हाउस , सिरि फोर्ट , नई दिल्‍ली -110049

पिछला अद्यतन दिनांक: 30/11/2016